वीर बल दिवस घोषित करने पर प्रधानमंत्री का जताया आभार

राष्ट्रीय सिख संगत ने किया आभार कार्यक्रम

विश्व संवाद केंद्र, भोपाल    14-Jan-2022
Total Views |
सिख
 
भोपाल. छोटे-छोटे बालकों को लालच देकर धर्म परिवर्तन के लिए कहा गया. उन्होंने दीवारों में चुनना स्वीकार किया लेकिन अपना धर्म नहीं बदला. उन्होंने धर्म की रक्षा के लिए अपना बलिदान दिया. हम सब लोग माननीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी का आभार व्यक्त करते हैं, उनका धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने वीर बाल दिवस के रूप में 26 दिसंबर पूरे देश में मानाने का अवसर दिया. यह बात राष्ट्रीय सिख संगत के राष्ट्रीय महामंत्री बिहारी लाल जी ने राष्ट्रीय सिख संगत द्वारा आयोजित आभार व्यक्त कार्यक्रम के दौरान कही.
 
राष्ट्रीय सिख संगत के सभी सदस्य प्रधानमंत्री द्वारा खालसा पिता श्री गुरु गोबिंद सिंह जी महाराज के प्रकाश पर्व के शुभ अवसर पर साहिबजादों के साहस, वीरता, शहादत को मुख्य रखते 26 दिसंबर को 'वीर बाल दिवस' के रूप में चिह्नित करने के लिए हम अपने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देने के लिए कार्यक्रम आयोजित किया गया था, जो कि न्यू मार्केट स्तिथ खेडापति हनुमान मंदिर के सामने कोरोना गाइडलाइन का पालन करते आयोजित हुआ था.
 
इस दौरान उपस्थित जनों ने गुरुगोबिंद सिंह जी के पुत्रों द्वारा धर्मरक्षा के लिए दिए प्राणों के बलिदान की कहानी सुनाई व भारत माता की जय के नारे लगाये.
 
कार्यक्रम में राष्ट्रीय सिख संगत के क्षेत्रीय मंत्री जसपाल सिंह द्वारा कहा कि गुरुगोबिंद सिंह जी के पुत्रों छोटे साहिबजादों जोरवर सिंह द्वारा धर्मरक्षा के लिए मिट्टी में खुदको चुना देना स्वीकार किया.
 
उन्होंने बताया कि आज के युवाओं को यह सब प्रेरणादायक है. उसी का सम्मान करते हुए मोदी जी ने उनकी शहादत उनके सम्मान में वीर बाल दिवस की घोषणा की है, जिसका सिख समाज और सभी धर्माविलंबी स्वागत करते हैं. उन्होंने प्रेरणा लेकर युवाओं से इस दिन को हर साल मनाने की बात कही. उन्होंने प्रधानमंत्री का धन्यवाद दिया. इस दौरान विक्रम सिंह, गीत धीर, कमलजीत सिंह, जी पी सिंह सहित अन्य सिख संगत के लोगों ने माननीय प्रधानमंत्री का हृदय से धन्यवाद दिया.