वनवासी कल्याण आश्रम की केंद्र से मांग-बंगाल की हिंसा की निष्पक्ष जाँच हो - पीड़ितों को मुआवजा मिले

विश्व संवाद केंद्र, भोपाल    02-Jul-2021
Total Views |
vanwasi_1  H x  
दिल्ली- . बंगाल में चुनाव परिणाम बाद की हिंसक घटनाओं के बड़ी संख्या में शिकार हुए अनुसूचित जाति एवं जनजाति लोगों को केंद्र सरकार मुआवजा दे, घटनाओं की जाँच के लिए उच्चतम न्यायालय की निगरानी में विशेष जाँच दल बने, शिकायतकर्ताओं और गवाहों को केन्द्रीय सुरक्षाबलों की सुरक्षा मिले, न्याय के हित में पडौसी राज्य असम व बिहार में विशेष न्यायालय बनाकर उनमे इन मामलों की सुनवाई की जाए – यह मांग अखिल भारतीय वनवासी कल्याण आश्रम ने की है. इस बारे वनवासी कल्याण आश्रम का एक प्रतिनिधिमंडल कल दिल्ली में केन्द्रीय गृहराज्य मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी और राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति आयोग के माननीय अध्यक्ष से मिला था.
माननीय राष्ट्रपतिजी, बंगाल के राज्यपाल को भेजे गए और दिल्ली में दिए गए ज्ञापनों में कहा गया है कि 9 ज़िलों के 45 गाँवों में 100 से भी अधिक हुई हिंसक घटनाओं में 500 से भी अधिक जनजाति परिवार मारपीट, आगजनी और लूट के शिकार हुए. दो जनजाति युवकों की हत्या करदी गई जिसे पुलिस ने बाद में आत्महत्या और दुर्घटना का मामला बता दिया. कई महिलाएं बलात्कार का शिकार हुई – गत दिनों जनजाति आयोग के दौरे में भी ये बातें सामने आई हैं. इन हमलों में बच्चों, बूढों और महिलाओं को भी नहीं बक्शा गया. लुटेरों ने चाय-बागान की फसल और घरों में अनाज भी नहीं छोड़ा.
कुल मिलकर 16 जिलों के 3662 गाँवों के 40 हज़ार लोग हिंसा के शिकार हुए, 30-35 लोगों की हत्या हुई, सैकड़ों मकान जलादिए गए, हजारों लोगों को अपनी जान बचाने पडौसी राज्यों या जंगलों में भागना पड़ा. ज्ञापन में यह भी कहा गया है कि हमले और डराने-धमकाने का काम अभी भी रुका नहीं है. उन्हें राशन की दुकानों से अनाज लेने के लिए भी उन्हीं गुंडों की सिफारिश करानी पड़ती है. पुलिस भी राज्य सरकार के दबाव और समुदाय विशेष के गुंडों के भय से जिन्हें सत्ताधारी दल का संरक्षण मिला हुआ है, कोई क़ानूनी कार्रवाई नहीं कर रही. राज्य में संवैधानिक विफलता का यह साफ़ प्रमाण है.
ज्ञापन में यह भी मांग की गई है कि अभियुक्तों की जल्द गिरफ़्तारी हो और जब तक मुकदमों की सुनवाई चले तब तक राष्ट्रीय अनुसूचित जाति और जनजाति आयोगों अपना कैंप कार्यालय बंगाल में खोलें जो इन मामलों की निगरानी करे ताकि लोगों को न्याय मिल सके. राज्य में जान-माल-आगजनी से हुए नुकशान के आंकलन का काम राष्ट्रीय अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग और रामकृष्ण मिशन जैसे निष्पक्ष संगठनों को सौंपा जाए जिसकी रिपोर्ट के आधार पर पीड़ित लोगों को केंद्र या राज्य सरकार समुचित मुआवजा दे. मारे गए लोगों के आश्रितों में से एक-एक सदस्य को केंद्र सरकार के उपक्रमों में नौकरी या उनके माँ-बाप को मासिक पेंशन देने और गंभीररूप से घायल लोगों को मुआवजा देने की भी मांग की गई.
वनवासी कल्याण आश्रम के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री रामचंद्र खराडी की अध्यक्षता में गए इस शिष्टमंडल में बंगाल, उत्तराखंड, दिल्ली और राजस्थान से वरिष्ठ पदाधिकारी सम्मिलित थे.