समाजिक सेवा का महासंकल्‍प, कोरोना की तीसरी लहर से निपटेंगे संघ के स्‍वयंसेवक

विश्व संवाद केंद्र, भोपाल    13-Jul-2021
Total Views |
 
 
 

RSS_1  H x W: 0
 
कोरोना के खिलाफ लड़ाई में कार्यकर्ताओं को विशेष प्रशिक्षण देगा संघ
- चित्रकूट की चार दिवसीय प्रांत प्रचारक बैठक में बनी योजना
- देशभर में विशेष कार्यकर्ता प्रशिक्षण वर्गों का होगा आयोजन
- शासन-प्रशासन के साथ कोरोना पीड़ितों की हो सकेगी मदद
सतना। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ कोरोना के संभावित तीसरी लहर का सामना करने के लिए देशव्यापी ''कार्यकर्ता प्रशिक्षण'' का आयोजन करेगा और इस प्रशिक्षित लेनेवाले स्‍वयंसेक-कार्यकर्ता देश में लगभग दो लाख पांच हजार स्थानों पर पहुँचकर सेवा कार्य में जुटेंगे । संघ की 27 हजार 166 शाखाएँ अब पुनः मैदान में प्रारंभ हो गयी हैं । इन शाखाओं पर फिर से तेजी से ध्‍यान देते हुए शाखा के माध्‍यम से व्‍यक्‍ति निर्माण और राष्‍ट्र के विकास को आगे बढ़ाया जाएगा। उक्‍त बातें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अखिल भारतीय प्रचार प्रमुख सुनील आम्‍बेकर ने रविवार को कहीं ।
क्षेत्र प्रचारकों के बाद हुई प्रांत प्रचारकों की बैठक, सेवा कार्यों की हुई समीक्षा
उल्‍लेखनीय है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की चित्रकूट में चल रही अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक में संगठनात्मक गतिविधियों की चर्चा के साथ ही कोरोना के दूसरी लहर से उत्पन्न परिस्थितियों की व्यापक रूप से चर्चा हुई है । साथ ही प्रांतों में हुए सेवा कार्यों की समीक्षा भी की गयी ।
इसके अलावा स्वयंसेवकों द्वारा संचालित वैक्सीन के टीकाकरण हेतु सुविधाकेंद्र व प्रोत्साहन के अभियानों की भी समीक्षा की गयी । बैठक के प्रारंभ में क्षेत्र प्रचारकों ने दो दिवस तक संगठन की दृष्टि से कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा की । साथ ही कोरोना के संक्रमण से पीड़ित लोगों की सहायता हेतु स्वयंसेवकों द्वारा किये गये देशव्यापी सेवा कार्यों की सरसंघ चालक एवं सभी संघ प्रमुख पदाधिकारियों ने समीक्षा की गई । इसके बाद संभावित तीसरी लहर के प्रभाव का आंकलन करते हुए सभी क्षेत्र प्रचारकों से आगे के सेवा कार्य की योजना तैयार करने को कहा गया । फिर देश भर के प्रांत प्रचारकों की बैठक शुरू हुई थी, जिसका कि आज अंतिम दिन था ।
कोरोना की संभावित तीसरी लहर के चलते संघ बढ़ाएगा समाज का मनोबल
आम्‍बेकर ने बताया कि कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए पुरे देश में शासन-प्रशासन का सहयोग करने एवं संभावित पीड़ितों की सहायता के लिए रा.स्‍व.संघ विशेष ''कार्यकर्ता प्रशिक्षण'' का आयोजन करने जा रहा है । संघ ने तय किया है कि समाज का मनोबल बढ़ाने के लिए आवश्यक सभी जानकारी उचित समय पर लोगों तक पहुँचाने के लिए स्‍वयंसेवक देश भर में 2.5 लाख स्थानों तक पहुँचें और यथासंभव सेवा कार्य में जुट जाएं ।
सेवा कार्य के लिए अपने साथ कई स्वयंसेवी और संस्थाओं को जोड़ेंगे स्‍वयंसेवक
उन्‍होंने बताया कि यह प्रशिक्षण अगस्त माह में पूर्ण किया जायेगा तथा सितंबर से जनजागरण द्वारा हर गाँव व बस्ती में कई स्वयंसेवी लोगों व संस्थाओं को इस अभियान में जोड़ा जायेगा । प्रशिक्षण में विशेष तौर पर कोरोना से बचाव हेतु बच्चों व माताओं के लिए आवश्यक सावधानियाँ एवं उपायों को शामिल किया गया है ।
देश भर में लग रहीं संघ की 39 हजार 454 शाखाएँ
इसके साथ ही संघ की नियमित लगनेवाली शाखा को लेकर आम्‍बेकर ने कहा कि जैसे-जैसे कोरोना के प्रकोप के पश्चात स्थितियाँ सामान्य हो रही है, संघ शाखाओं का संचालन भी मैदान में प्रारंभ हुआ है । उन्‍होंने बताया कि देश भर में वर्तमान में कुल 39 हजार 454 शाखाएँ संचालित हो रही है जिसमें 27 हजार 166 शाखाएँ अब मैदान में लग रही है तथा 12 हजार 288 ई-शाखाएँ है। साथ ही साप्ताहिक मिलन कुल 10 हजार 130 है, जिसमें प्रत्यक्ष रूप से मैदान में छह हजार पांच सौ दस पुनः प्रारंभ हुये तथा ई-मिलन तीन हजार छह सौ बीच है । कोरोना के लॉकडाऊन काल में विशेष रूप से प्रारंभ हुये कुटुंब मिलन देश भर में नै हजार छह सौ सैंतीस की संख्‍या में अब तक हो चुके हैं।
उल्लेखनीय है कि चित्रकूट स्थित दीनदयाल शोध संस्थान के आरोग्यधाम परिसर में 09 जुलाई से शुरू हुई अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक का समापन 12 जुलाई को होगा। वर्षभर में संघ की तीन प्रमुख बैठकें होती हैं। पहली बैठक होली पर्व के आसपास होती है, जो अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा के नाम से जानी जाती है। दूसरी; दीवाली के आसपास होने वाली बैठक अखिल भारतीय कार्यकारी मंडल के नाम से जानी जाती है। जबकि तीसरी बैठक जुलाई में होती है, जो अखिल भारतीय प्रांत प्रचारक बैठक के नाम से चर्चित है। अखिल भारतीय प्रतिनिधि सभा; संघ की सर्वोच्च नीति निर्धारक इकाई है।